Thursday, February 16, 2012

कुरीतियां छोड़ो, शिक्षा से नाता जोड़ो

देवनारायण जयंती पर छात्रसंघ उपाध्यक्ष आभासिंह को फलों व मिठाइयों से तोला

 
 सीकर / झुंझनूं (राघवेन्द्र गुर्जर)
 राजस्थान विश्वविधालय की छात्रसंघ उपाध्यक्ष आभासिंह ने कहा कि शिक्षा प्रगति का मूल मंत्र है। इसके बिना जीवन के किसी भी लक्ष्य को प्राप्त नही किया जा सकता। आज हमारा समाज इसी क्षेत्र में सबसे ज्यादा पिछड़ा हुआ है। इसका एक बड़ा कारण समाज में व्याप्त कुरीतियां हैं। अगर हमें समाज का विकास करना है तो इन कुरीतियों को त्यागना पड़ेगा और अपने बच्चों को पढ़ाने पर ध्यान देना होगा।  वे देवनारायण जंयती पर झुंझुनू जिले के देवपुरा गॉव में स्थित प्राचीन देवनारायण मंदिर मेले में आयोजित गुर्जर प्रतिभा सम्मान समारोह में संबोधित कर रही थीं।
उन्होंने कहा कि धुम्रपान, शराब, मृत्युभोज व दहेज समाज के विकास में सबसे बडे बाधक हैं। इन सब में हम व्यर्थ में ही धन की बर्बादी करते हैं। हमें इन बुराइयों को त्याग देना चाहिए। इनमें बर्बाद किए किए जाने वाले धन को अपने बच्चों की शिक्षा पर खर्च करना चाहिए। 
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि अखिल भारतीय युवा गुर्जर महासभा के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. शैलेन्द्र गुर्जर ने आभासिंह का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि हमें बालिकाओं को अच्छी शिक्षा दिलानी चाहिए। कार्यक्रम की अध्यक्षता राजस्थान गौ सेवा संघ के अध्यक्ष संत शिरोमणि दिनेशगिरी महाराज ने की।
 


प्रतिभाओं का सम्मान
राजस्थान विश्वविधालय की छात्रसंघ उपाध्यक्ष आभासिंह ने प्रतिभावान बालक-बालिकाओं को प्रशस्ति पत्र देकर दिए। मंदिर समिति की ओर से आभासिंह का राजस्थानी चूनड़ी ओड़ाकर स्वागत किया। समारोह में नेहासिंह, युवा गुर्जर महासभा के प्रदेश प्रभारी नरेन्द्र अंबावत व विधार्थी परिषद के प्रदेश मंत्री मनोज धाभाई ने भी संबोधित किया। इससे पूर्व आभासिंह, नेहासिंह व अखिल भारतीय युवा गुर्जर महासभा राजस्थान के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. शैलेन्द्र गुर्जर का रींगस, पलसाना, राणौली, धोंरिया, मलखेडा, गोकुलपुरा, रामू का बास, पीपराली, दौलतपुर, भैरूजी स्टैण्ड, पुरोहित का बास सहित कई दर्जन स्थानों पर स्वागत किया। छात्र नेता आभासिंह को फ लों व मिठाइयों से भी तोला गया। इस अवसर पर राजेन्द्र, गौतम, तनसुख, महेन्द्र, रामनिवास, विरेन्द्र, जितेन्द्र, महावीर, ओमप्रकाश व गोगरात सहित हजारों लोग मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment

सबसे ज्यादा देखी गईं