Sunday, May 02, 2010

50 प्रतिशत के भीतर ही मांगा आरक्षण

दौसा जिला परिषद सदस्य सुरेंद्र सिंह गुर्जर के नेतृत्व में गुर्जर समाज के प्रतिनिधियों ने इसरानी कमेटी के समक्ष अपना पक्ष रखा
(दौसा जिला). दौसा जिला परिषद सदस्य सुरेंद्र सिंह गुर्जर के नेतृत्व में गुर्जर समाज के प्रतिनिधियों ने इसरानी कमेटी के समक्ष अपना पक्ष रखा। कमेटी के समक्ष सुरेंद्र सिंह गुर्जर ने अपना पक्ष रखते हुए बताया कि चौपड़ा कमेटी के सुझावों व गुर्जर समाज की वर्तमान शैक्षिक व आर्थिक हालत को मद्देनजर रखकर समाज को जल्द 5 प्रतिशत आरक्षण का रास्ता साफ करना चाहिए, जिससे पिछड़े समाजों को देख एवं राज्य की मुख्य धारा में जुडऩे का मौका मिले। गुर्जर समाज को ओबीसी में से 4 प्रतिशत एवं शेष बच रहा 1 प्रतिशत को मिलाकर 5 प्रतिशत आरक्षण 50 प्रतिशत के दायरे के अंदर से दिया जाए। अखिल भारतीय गुर्जर छात्र परिषद के जिलाध्यक्ष चौधरी करणसिंह गुर्जर ने आम जन की समस्याओं एवं असुविधाओं को ध्यान में रखते हुए कोई सर्वमान्य हल निकालने का आह्वान किया। प्रतिनिधि मंडल मे युवा गुर्जर महासभा के मुकेश कसाना, अखिल भारतीय गुर्जर छात्र परिषद के जिला उपाध्यक्ष कमल कैलाई, समयसिंह, बलवीर सिंह, हेमराज फागणा शामिल थे।
पीपलू में भी धरने पर बैठे गुर्जर
(टोंक जिला). आरक्षण की मांग को लेकर शनिवार को पीपलू के गुर्जर छात्रावास में लक्ष्मण गुर्जर हरिपुरा के नेतृत्व में करीब पचास लोग धरने पर बैठे। इससे पहले समाज के लोगों ने छात्रावास स्थित भगवान देवनारायण के मंदिर में पूजा की। लक्ष्मण गुर्जर हरिपुरा ने बताया कि तहसील क्षेत्र के गुर्जर समाज के लोग आरक्षण मांग पूरी होने तक यहां शांति से धरना दिया जाएगा। धरने को मेवाराम गुर्जर, अशोक बलखडिय़ा, कालू राम गुर्जर नाथड़ी ने संबोधित किया। धरने में बैठने वालों में हनुमान गुर्जर, नानू लाल गुर्जर, गोपाल नवरंपुरा, हरिराम मसूदपुरा, घासी लाल गुर्जर बोरखंडी, सूरजकरण हरिपुरा, रमेश संदेड़ा सहित समाज के करीब पचास लोग शामिल हुए।
युवा गुर्जर जन जाग्रति संगठन की बैठक
(दौसा जिला). दौसा के देवनारायण मंदिर में शनिवार को हुई युवा गुर्जर जन जाग्रति संगठन की बैठक में सुरेंद्र हाल ने कहा कि यदि सरकार ने 3 मई तक आरक्षण नहीं दिया तो आंदोलन तेज किया जाएगा। गुर्जर सामज बच्चों, महिलाओं व मवेशियों सहित सड़कों पर उतर आएगा। बैठक में जगदीश फागणा, सतवीर कसाना, सूबेदार जलसिंह, कमलेश खुरी, श्योदान हाल, महेंद्र कसाना, पदमसिंह, रामजीलाल पटेल, रामकिशन चेची, रामस्वरूप बैसला, सरदार लोहसरी, महेंद्र अंदाना आदि मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment

सबसे ज्यादा देखी गईं