Breaking News

विरोधी नेताओं को समाज से निकाला जाएगा : तंवर

 करौली के भूड़ारा बाजार स्थित एक निजी मकान पर कुमोद सिंह की अध्यक्षता में गुर्जर समाज के प्रमुख पंच पटेलों की  बैठक 
करौली. गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के अध्यक्ष कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला के नेतृत्व में गुर्जर समाज के लोग 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर 3 अप्रैल को राज्य के विभिन्न स्थानों से एक साथ जयपुर
कूच करेंगे।
संघर्ष समिति के उपाध्यक्ष कैप्टन हरप्रसाद तंवर ने भूड़ारा बाजार स्थित एक निजी मकान पर कुमोद सिंह की अध्यक्षता में गुर्जर समाज के प्रमुख पंच पटेलों की  बैठक में कहा। उन्होंने कहा कि गुर्जर आरक्षण आंदोलन का नेतृत्व कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला ही करेंगे और पूरे राजस्थान के गुर्जर उनका साथ देंगे। उन्होंने बताया कि जो लोग आंदोलन का विरोध कर समाज से अलग चलने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें समाज से बहिष्कृत किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि चाहे भाजपा सरकार हो या कांग्रेस सरकार दोनों ही सरकारों ने उन्हें 5 प्रतिशत आरक्षण न देकर उनके साथ सौतेला व्यवहार किया है, अब सरकार से उनका विश्वास उठ गया है। उन्होंने कहा कि इस बार चाहे कुछ भी हो जाए राज्य सरकार से अपना हक लेकर ही रहेंगे।
पूरे राजस्थान के गुर्जर हिस्सा लेंगे
बैठक को संबोधित करते हुए रोंडकला सरपंच बसंता ने कहा कि जिले का नहीं बल्कि पूरे राजस्थान का गुर्जर समाज कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के साथ है और उन्हीं के नेतृत्व में आंदोलन में हिस्सा लेंगे। कैप्टन भीमसिंह ने कहा कि 3 अप्रैल को खावदा स्थित महापड़ाव में इस बार पूरी तैयारी के साथ भाग लें।
बल प्रयोग किया तो भुगतेगी सरकार
समिति के उपाध्यक्ष कैप्टन हरप्रसाद तंवर ने कहा कि वह गांधीवादी तरीके से आंदोलन करना चाहते हैं, और इसके लिए वह 3 अप्रैल को शांति पूर्वक जयपुर के लिए कूच करेंगे। अगर इस दौरान सरकार ने अपना बल का प्रयोग किया तो सरकार इसके परिणाम भुगतने को भी तैयार रहे।
संदेश का करें इंतजार
तंवर ने कहा कि आंदोलन का बिगुल बज चुका है और 3 अप्रैल को कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला के नेतृत्व में गाजीपुरा के खावदा महापड़ाव स्थल से हजारो की संख्या में गुर्जर, रेबाडी, बंजारा व गाडिय़ा लुहार अपने पालतू पशुओं के साथ जयपुर के लिए कूच करेंगे फिर भी समाज के लोग कर्नल बैंसला के संदेश का इंतजार करें क्योंकि इससे पहले भी जयपुर के लिए कूच किया जा सकता है। कैप्टन हर प्रसाद तंवर सहित सभी पदाधिकारी व पंच पटेलों ने बताया कि कुछ लोग सरकार के बहकावे व सरकार में पद पाने की लालसा से समाज को गुमराह कर आंदोलन के रूख को बदलने की कोशिश करने वालों को चेतावनी कि वह समाज को गुमराज न करें नहीं तो उन्हें समाज से बहिष्कृत कर दिया जाएगा। इसका परिणाम सामने हैं जिन्होंने पूर्व के आंदोलन में विरोध किया उनकी क्या स्थिति हो गई वह इससे सबक ले लें। कैप्टन हरप्रसाद तंवर ने बैठक में उपस्थित समाज के पंच पटेलों से कहा कि वह आज से अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर समाज के लोगों से कहें कि 3 अप्रेल को आंदोलन में अधिक से अधिक भाग लेने के लिए पूरी तरह रहें।
भेड़ बकरियां भी ले जाएं साथ
बैठक में समाज के लोगों ने कहा कि 3 अप्रैल को होने वाले कूच में बंजारा, गडरिया लुहार, रेबारी अपने साथ हजारों लाखों की संख्या में अपने पालतू पशु भेड़ बकरी, गाय, ऊंट आदि के साथ जयपुर पहुंचे और सरकारी कार्यालयों व आवासों में आराम से जीवन बसर कर रहे मंत्री व सरकार के नुमाइंदों को बाहर निकालकर उनमें इन्हें बांध दें।  इससे सरकार को पता चले गुर्जर, गाडिय़ा लुहार व बंजारा जाति के लोग किस प्रकार अपना जीवन व्यतीत करते हैं।
किसी भी सूरत में हक लेकर रहेंगे
बैठक को सुरेश विडरवास, भंवर सरपंच, पूरण सरपंच,, समय सिंह, दयाराम तुलसीपुरा, रामस्वरूप बैंसला एडवोकेट, विजय, शीशराम, चौरासी गांव के अध्यक्ष रामसिंह, उदल सिंह पैंचला सभी ने कहा कि चाहे यह समय उनकी खेती का है, लेकिन उन्हें इसकी कोई चिंता नहीं है वह किसी भी सूरत में इस बार अपना हक 5 प्रतिशत आरक्षण लेकर ही दम लेंगे। उन्होंने समाज के सभी लोगों से कहा कि वह इस बार सरकार को अपनी ताकत दिखा दें कि गुर्जर समाज अपने हक के लिए संघर्ष करता आ रहा है। बैठक में सरपंच बंसता राम, कैप्टन रेख सिंह, सुरेश बिंदापुरा, हररूप नेता, भंवर  सरपंच, समय सिंह, पूरण सरपंच, दयाराम ठेकेदार, श्रीपत सरपंच, विजय सिंह धाबाई, रामस्वरूप बैंसला, मेघराम ठेकेदार, शीशराम, जगदीश, मेघराम
बैसला सहित दर्जनों गुर्जर समाज के पंच पटेल उपस्थित थे।
(करौली भास्कर से साभार)

No comments

सबसे ज्यादा देखी गईं