गुर्जर आरक्षण आंदोलन : अब कुशालीदर्रा पर डेरा

Powered by Blogger.

छाण गांव में डाले महापड़ाव के तीसरे दिन कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में गुर्जर कुशालीदर्रा रवाना हुए

 सवाई माधोपुर. आरक्षण की मांग को लेकर खंडार तहसील के छाण गांव में डाले महापड़ाव के तीसरे दिन गुर्जरों ने कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में कुशालीदर्रा पहुंचकर डेरा डाल दिया। शिवपुरी स्टेट हाइवे मार्ग स्थित कुशालीदर्रा पर गुर्जर समाज के लोगों के जमावड़ा जमाने के बाद प्रशासन ने एहतियात के तौर पर शिवपुरी स्टेट हाइवे मार्ग पर वाहनों का आवागमन खंडार रोड स्थित रामद्वारा के पास ही रोक दिया। वाहनों का आवागमन बंद होने के कारण आसपास के गांवों सहित मध्य प्रदेश के श्योपुर व कोटा जिले के इटावा खातौली सहित अन्य स्थानों पर जाने वाले यात्रियों को करीब 30 किलोमीटर का रास्ता पैदल ही तय करना पड़ा। बाद मेंं वे बहरावंडा से वाहनों में सवार होकर गंतव्य को पहुंचे।
आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर समाज के लोगों द्वारा कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला के नेतृत्व में छाण गांव में शुरू किए महापड़ाव के तीसरे दिन भी सरकार की ओर से कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला। गुर्जर समाज के  पंच पटेलों की दोपहर में छाण गांव में सभा हुई। सभा में मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले सहित कोटा व खंडार क्षेत्र के काफी संख्या में गुर्जर समाज के लोग मौजूद थे। महासभा में सभी पंच पटेलों से सलाह मशविरा करने के बाद गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने दो पहाडिय़ों के बीच होकर निकल रहे शिवपुरी स्टेट हाइवे मार्ग स्थित कुशालीदर्रा पर महापड़ाव डालने का निर्णय लिया। कुशालीदर्रा में महापड़ाव डालने की घोषणा के बाद गुर्जर समाज के सभी लोग कर्नल बैसला के साथ जुलूस के रूप में वाहनों तथा पैदल ही छाण से कुशालीदर्रा के लिए नारेबाजी करते हुए रवाना हुए। करीब 15 किलोमीटर का रास्ता तय कर जुलूस के रूप मे शाम पांच बजे कुशालीदर्रा पहुंचे। यहां पहुंचने के बाद जुलूस सभा के रूप में बदल गया।

एक्सपेरिमेंट कर रही है सरकार

सवाई माधोपुर त्न कुशालीदर्रा में महापड़ाव पर बैठे गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला ने भास्कर से बातचीत में कहा कि गुर्जर समाज वर्षों से आरक्षण की मांग को लेकर संघर्ष कर रहा है। सरकार गुर्जरों की मांग पर ध्यान नहीं दे रही है। सरकार ने लोकतंत्र में मुस्लिमों व जाटों को बिना आंदोलन किए आरक्षण दे दिया। गुर्जरों को आंदोलन करने के बाद भी आरक्षण नहीं दिया जा रहा हैं। आखिर सरकार गुर्जरों पर ही क्यों एक्सपेरिमेंट कर रही है। सरकार अभी तक गुर्जर समाज को हल्के में ले रही है। इस बार गुर्जर समाज सरकार के बहकावे में नहीं आने वाला।

ट्रैक पर बढ़ाई सुरक्षा

सवाई माधोपुर त्न कुशालीपुरा में गुर्जर आरक्षण आंदोलन को देखते हुए रेलवे पुलिस प्रशासन ने भी रेलवे ट्रैक पर सुरक्षा बढ़ा दी है। आरपीएफ थाना प्रभारी रमेश चंद ने जवानों को ट्रैक की सुरक्षा के निर्देश दिए हैं। रेलवे इंजीनियर एवं कर्मचारी भी ट्रैक पर पेट्रोलिंग कर रहे हैं। आरपीएफ थाना प्रभारी ने बताया कि गुर्जर आरक्षण आंदोलन के दौरान रेल पटरियों पर किसी प्रकार व्यवधान नहीं हो तथा व्यवस्थाएं एवं सेवाएं सुचारू चलती रहे। ऐहतियात के तौर पर जवानों को तैनात कर दिन एवं रात के समय गश्त करने के निर्देश दिए हैं। रेलवे प्रशासन के इंजीनियरिंग विभाग की टीम भी रेलवे स्पेशल कोच से विशेष नजर रखे हुए हैं। जिले में कानून एवं व्यवस्था बनाएं रखने के लिए कलेक्टर ने जिला स्तरीय अधिकारियों को सतर्कता रखने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर गिरिराज सिंह कुशवाह ने कुशालीपुरा क्षेत्र का दौरा किया। कर्नल बैसला से दूरभाष पर वार्ता भी की। कलेक्टर ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिले में पानी, बिजली सहित अन्य व्यवस्थाएं समुचित रखें। छाण एवं कुशालीपुरा की स्थिति से राज्य सरकार एवं उच्चाधिकारियों को अवगत कराया। अतिरिक्त जिला कलेक्टर शंकरलाल शर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मामनसिंह, एसडीएम सवाई माधोपुर एवं अन्य अधिकारी छाण गांव एवं आसपास के क्षेत्र में दिन भर नजर रखे रहे।

कुशालीदर्रा पर ही क्यों लगाया जाता है जाम

सवाई माधोपुर/बहरावंडा कलांत्न कुशालीदर्रा होकर जाने वाले सवाई माधोपुर से ग्वालियर जाने वाले स्टेट हाइवे के दोनों तरफ पहाड़ होने के कारण यहां पर आसानी से जाम लगाया जा सकता है।
दूसरा आसपास के गांव गुर्जर बाहुल्य होने के कारण अच्छी संख्या में समाज के लोग जमा रहते हैं। तीसरा समाज के अधिकतर लोग वन क्षेत्र एवं यहां की आबोहवा से परिचित होने के कारण आसानी महसूस करते हैं। पूर्व में आरक्षण आंदोलन के दौरान इसी स्थान पर पुलिस की गोली से दो लोगों की मृत्यु होने के बाद उनकी समाधि बनाई गई थी। इस कारण भी सामाजिक एवं भावनात्मक रूप से इस स्थान को समाज के लोग महत्वपूर्ण मानते हैं। इसके अलावा दोनों ओर पहाडिय़ां ं होने से प्रशासनिक कार्रवाई भी एकाएक नहीं हो पाती।

शिवपुरी स्टेट हाइवे बंद

कुशालीदर्रा पर गुर्जरों के महापड़ाव को देखते हुए प्रशासन ने खंडार, श्योपुर सहित कोटा जिले खातोली, इटावा आदि स्थानों पर जाने वाले वाहनों को शहर में रामद्वारा के पास ही रोक दिया। हालांकि बैंसला ने गुर्जर समाज की ओर से अभी तक आधिकारिक तौर पर जाम लगाने की घोषणा नहीं की, लेकिन प्रशासन की ओर से वाहनों को रोकने से इस मार्ग पर वाहनों का आवागमन अब पूरी तरह बंद हो गया है। लोगों को पैदल ही जाना पड़ा।

 करौली जिले में भी आरक्षण आंदोलन

गुड़ला में गुर्जरों का महापड़ाव शुरू

करौली. सवाईमाधोपुर के छान गांव में कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला के महापड़ाव के बाद आरक्षण का बिगुल करौली जिले में बज गया है। शुक्रवार को गुर्जर समाज के 12 गांवों के लोगों ने करौली हिंडौन मार्ग स्थित गुड़ला गांव में महापड़ाव शुरू कर दिया है। गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के तत्वावधान में शुरू हुए महापड़ाव में समाज के लोगों ने कहा कि संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला जो भी निर्देश देंगे उसकी गुर्जर समाज के लोग पालना करेंगे। संघर्ष समिति के भानुप्रताप उर्फ बटरू गुर्जर ने बताया कि संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला द्वारा सवाईमाधोपुर के छान गांव में शुरू हुए महापड़ाव के बाद संघर्ष समिति के तत्वावधान में गुड़ला गांव में महापड़ाव शुरू कर दिया गया है। जिले के अन्य स्थानों पर भी महापड़ाव शुरू किए जाएंगे। इस बार गुर्जर समाज किसी भी सूरत में पीछे नहीं हटेगा और आरपार की लड़ाई लड़ेगा।
प्रदेश संघर्ष समिति के कंट्रोल प्रभारी सूबेदार भीम सिंह ने कहा कि आरक्षण की इस लड़ाई में गुर्जर समाज पूरी तरह एकजुट हैं। कर्नल के यहां से जो भी आदेश मिलेगा समाज के लोग उसे पूरा करेंगे। इस बार सरकार के झांसे में समाज के लोग आने वाले नहीं हैं।

    महापड़ाव में युवा गुर्जर महासभा के धीरेंद्र बैंसला, साहेब सिंह, दशरथ, अतर सिंह, पूर्व सरपंच कलुआ राम, रौंडकला सरपंच पूरण, जगपाल बैसला (जेपी), नथुआ सिंह सहित गुर्जर समाज
के 12 गांवों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

हरहाल में लेकर रहेंगे आरक्षण

कंजोलीत्नकंजोली में शुक्रवार को गुर्जर महापंचायत भरोसी हरसाना की अध्यक्षता में हुई।  महापंचायत में उपस्थित गुर्जर समाज के लोगों ने एक स्वर में कहा कि गुर्जर समाज हर हाल में आरक्षण का हक लेकर रहेगा।
इस मौके पर समिति के व्यवस्थापक ऊदल सिंह पेंचला ने कहा कि सरकार गुर्जरों के आरक्षण की मांग को पूरी नहीं कर पा रही है। इससे गुर्जर समाज के लोगों में रोष है। आरक्षण की मांग को लेकर कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला के नेतृत्व में समाज के लोग सवाईमाधोपुर के छाण गांव में महापड़ाव पर बैठे हैं और उनके समर्थन में पीलूपुरा के पास धरना दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यदि समाज को आरक्षण का हक नहीं दिया गया तो आंदोलन करने पर मजबूर होना पड़ेगा। संघर्ष समिति के जिलाध्यक्ष अतरूप सिंह ताजपुर ने कहा कि सरकार को शीघ्र ही 4 प्रतिशत शेष आरक्षण लागू करने के साथ पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष के साथ पूरी समिति गठित करनी चाहिए।
महापंचायत में निर्णय लिया गया कि कर्नल बैसला के निर्देशों तक गांव में महापड़ाव जारी रहेगा। महापंचायत को राजू नेता, भीमराज, भरतसिंह, जनक सिंह, विजेंद्र, रामभान, हरसहाय, वीपी सिंह, साहब सिंह, हरगुन, कृष्णा गुर्जर, कजोड़ी, करन सिंह, हरप्रसाद, कैलाश, अमरसिंह, सरपंच दीपक करेला, गोविंद सिंह, ब्रह्मसिंह, जीतू तंवर, हरकेश लपावली आदि ने संबोधित किया।

पीलूपुरा में धरना शुरू

सूरौठ. पांच फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर शुक्रवार से गुर्जरों ने पीलूपुरा के पास धरना शुरू कर दिया है। पीलूपुरा के शहीद स्मारक स्थल पर गुर्जर धरने पर बैठे हुए हंै। धरने पर बैठे गुर्जरों का कहना रहा कि कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला का इशारा मिलते ही पीलूपुरा में आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा। गुर्जर नेता भूरा भगत, श्रीराम बैसला, राजस्थान गुर्जर युवा मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष जीतू तंवर, दीवान सिंह, प्रताप सिंह, कमल सिंह, सुभाष सहित गुर्जर समाज के लोग पीलूपुरा स्थित शहीद स्मारक स्थल पर धरने पर बैठ गए हैं। धरना स्थल पर कीर्तन मंडली कार्यक्रम भी शुरू कर दिया है।


0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

Gadget

This content is not yet available over encrypted connections.

Gadget

This content is not yet available over encrypted connections.

सबसे ज्यादा देखी गईं