Header Ads

Breaking News

डिनोटिफाइड ट्राइब्स लिस्ट से गुर्जरों का नाम हटाना साजिश : भाटी


गाजियाबाद के गाँव जावली  में गुर्जर युवा सम्मलेन
गाजियाबाद (दीपक गुर्जर)
इतिहासकार डॉ सुशील भाटी ने कहा कि गुर्जर बिरादरी को अंग्रेजों ने क्रिमिनल त्रिबेस में रखा था। इससे denotified tribes का आरक्षण रूड़की इंजीनियरिंग कॉलेज में मिलता भी था, परन्तु यह आरक्षण बिना मतलब के खत्म कर लिस्ट से गुर्जर जाति का नाम हटा दिया गया है। अब केंद्र सरकार एक नया आयोग बना रही है denotified tribes का आरक्षण लागू करने के लिए, मगर हमे आरक्षण तभी मिल पाएगा जब हमारा नाम उस लिस्ट में हो।  इस लिस्ट के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं हो सकती है, क्यों कि ये लिस्ट अंग्रेजों की बनाई हुई है। इस लिस्ट में से गुर्जर जाति का नाम हटाना एक साजि़श है। डॉ. भाटी अखिल भारतीय युवा गुर्जर महासभा की ओर से जिला गाजियाबाद के गाँव जावली  में आयोजित गुर्जर युवा सम्मलेन  में बोल रहे थे।
    कार्यक्रम  की अध्यक्षता अखिल भारतीय गुर्जर महासभा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष राम शरण भाटी और लोनी विधानसभा के विधायक मदन भइया गुर्जर ने की। विमुक्त घुमंतू महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष हरिभाऊ राठौर बंजारा,  नेशनल फेडरेशन फिशेर्मन  कार्पोरेटिव लिमिटेड के चेयरमैन प्रकाश लोनारे और माहाराष्ट्रा मच्छीमार समिति अध्यक्ष दामोदर तन्देल  डॉ ओमकार नाथ कटियार  मुख्य अतिथि थे। इस अवसर पर राष्टीय विमुक्त घुमंतू महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष हरिभाऊ राठौर बंजारा ने कहा कि युवा या तो आन्दोलन करके या हाई कोर्ट में केस डाल के इस लिस्ट में नाम डलवा सकते हैं और इसके लिए उनको ही पहल करनी होगी।  समाज सेवी मोहित तोमर ने बताया कि इस आरक्षण के बाद समाज की दशा और दिशा दोनों ही बदल जाएगी। विधायक मदन भइया गुर्जर ने बताया कि वे इस मांग को उत्तर प्रदेश  विधानसभा  में उठाएंगे। मंच संचालन अखिल भारतीय युवा  गुर्जर महासभा के राष्ट्रीय संयोजक  अनुराग चौधरी ने किया।
कार्यक्रम का आयोजन लोनी विधानसभा से युवा अध्यक्ष शैलेंद्र कसाना ने किया। अमित कसाना  की तरफ से नाश्ते का प्रबंध था है।
बैठक में ज्योतिषि के पी गुर्जर, प्रीतम गुर्जर, योगेश डेढा, सचिन गुर्जर, दीपक गुर्जर, कपिल भडाना, अजय डेढा, गौरव रौषा, उमेश भाटी विवेक चौहान, सचिन खटाना, अभाश चंदेला, करमवीर बिधुरी, सोनू चपराना, अमित गेराठी, अभिषेक लोह्मोद, अनिल चौधरी, रवि मावी एवं सेंकड़ों गुर्जर उपस्थित थे।   



No comments

सबसे ज्यादा देखी गईं