Thursday, September 16, 2010

राजनीतिक चेतना के माध्यम से राष्ट्र निर्माण में जुटें : सिंह

आदिवराह गुर्जर प्रतिहार सम्राट मिहिर भोज की जयंती मनाई
जयपुर. 'वर्तमान परिस्थितियों में देश को अराजकता से उबारने में गुर्जर महत्वपूर्ण भूमिका निर्वाह कर सकते हैं, क्योंकि गुर्जर सभी धर्मों में अपना अस्तित्व बनाए हुए हैं। गुर्जर अपनी शक्ति पहचानते हुए राजनीतिक चेतना के माध्यम से राष्ट्र निर्माण में योगदान दें।Ó यह बात शनिवार को राजस्थान गुर्जर महासभा के तत्वावधान में हुए आदिवराह गुर्जर प्रतिहार सम्राट मिहिर भोज के जयंती समारोह में अखिल भारतीय गुर्जर महासभा के राष्ट्रीय महामंत्री डॉ. यशवीर सिंह ने कही।
कार्यक्रम के अध्यक्ष पूर्व जिला प्रमुख रामगोपाल गार्ड ने कहा कि गुर्जर संस्कृति के पुनर्जागरण के माध्यम से देश में सामाजिक समरसता का वातावरण निर्मित किया जा सकता है।  कार्यक्रम के दौरान गुर्जर क्षत्रियों की उत्पत्ति पुस्तक के लेखक के.आर. गुर्जर ने मिहिर भोज के जीवन पर प्रकाश डाला। राजस्थान गुर्जर महासभा के प्रदेश महामंत्री मोहनलाल वर्मा ने भारतवर्ष में गुर्जर समाज की स्थिति, उनका इतिहास जैसे कुषाण साम्राज्य, प्रतिहार साम्राज्य, धर्म व दर्शन समन्वय, साहित्य और कला आदि पर विस्तृत जानकारी दी। इससे पूर्व रामगोपाल गार्ड, लुधियाना की साध्वी विश्वभारती, अंबिका भारती तथा डॉ. सिंह ने सम्राट मिहिर भोज के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वलित किया।

No comments:

Post a Comment

सबसे ज्यादा देखी गईं