Friday, September 16, 2011

जयपुर में गोष्ठी, दौसा में छात्र सम्मेलन

दोनों ही जगह समाज के वरिष्ठजनों ने दिया बच्चे-बच्चियों को पढ़ाने पर जोर
शिक्षा के प्रसार के बगैर समाज का विकास नहीं हो सकता, यह बात अब गुर्जरों के समझ में आने लगी है। इसी का नतीजा है जयपुर में गुर्जर समाज की दशा और दिशा पर संगोष्ठी और दौसा में गुर्जर छात्र सम्मेलन का आयोजन। दोनों ही जगह पर वरिष्ठजनों ने बच्चे-बच्चियों को पढ़ाने पर जोर दिया। आरक्षण या फिर और कोई लाभ लेने के लिए हमारे बच्चे योग्य बनें इसके लिए जरूरी है कि वे उच्च शिक्षा प्राप्त करें।
रोजगार परक शिक्षा को अपनाएं : मसूद चौधरी 
जयपुर : जम्मू कश्मीर के पूर्व डीजीपी मसूद चौधरी ने कहा कि गुर्जर समाज को बच्चों की शिक्षा पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान देना चाहिए। उन्हें आधुनिक तकनीक व व्यावसायिक शिक्षा को अपनाना चाहिए। सरकार की छात्रवृत्ति व अन्य सुविधाओं का लाभ लेना चाहिए। वे सोमवार को जयपुर के नारायणसिंह सर्किल स्थित तोतुका भवन में गुर्जर समाज की दशा और दिशा पर आयोजित संगोष्ठी में मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में पूर्व विधायक नाथूसिंह गुर्जर, हरिसिंह महुआ, रामचन्द्र सराधना रामगोपाल गार्ड, ब्रह्मसिंह, दौसा जिला प्रमुख अजीत सिंह, डॉ. रूपसिंह ने विचार व्यक्त किए। प्रो. पी.एस. वर्मा, प्रो. आर.डी. गुर्जर, प्रो. आर.के. गुर्जर, प्रो. लीलाराम ने समाज में शिक्षा के विकास पर बल दिया।
समाज के बच्चों के लिए अलग से खोले जाएंगे स्कूल : जड़फिया
दौसा . गुजरात के पूर्व गृह मंत्री गोरधन भाई झड़पिया ने कहा कि समाज के बच्चे-बच्चियों अच्छी और रोजगार परक शिक्षा देने के लिए अलग से स्कूल खोले जाएंगे। वे गुर्जर स्टूडेंट फैडरेशन के तत्वावधान में आगरा रोड पर स्थित एक मैरिज हॉल में गुर्जर छात्र सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता खादी आयोग के पूर्व अध्यक्ष डॉ. यशवीर सिंह ने की तथा विशिष्ट अतिथि दिनेश गुर्जर थे। सम्मेलन में खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग की ओर से छात्रों को प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत स्वरोजगार को बढ़ावा देने तथा शिक्षित बेरोजगार लोन की जानकारी दी गई।  इस दौरान मनमीत, खुर्शीद भाटी, मोतीलाल माल, समाजवादी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष पूर्व सांसद पं. रामकिशन, खादी आयोग के देवेंद्र पाल, रामनिवास मीणा सहित विभिन्न जगहों से आए समाज के विद्यार्थी मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment

सबसे ज्यादा देखी गईं