Monday, March 22, 2010

कर्नल के नेतृत्व में ही लड़ेंगे आरक्षण की लड़ाई

कैलाई में हुई समाज की महापंचायत में वक्ताओं ने किया एलान
(दौसा जिला). गुर्जर समाज आरक्षण की लड़ाई कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला के नेतृत्व में ही लड़ेगा। किसी भी सूरत में नेतृत्व नहीं बदला जाएगा। यह एलान समाज के लोगों ने कैलाई के देवनारायण मंदिर में हुई गुर्जर महापंचायत में किया। हालांकि महापंचायत में कर्नल नहीं पहुंच पाए इससे लोगों को थोड़ी निराशा जरूर हुई, लेकिन उनका उत्साह कम नहीं हुआ। यह महापंचायत 26 मार्च को पुष्कर में होने वाली महापंचायत की रणनीति पर चर्चा के लिए बुलाई गई थी।
भाजपा-कांग्रेस की नीयत में खोट : विधूड़ी
गुर्जर महा परिषद के राष्ट्रीय संयोजक रामवीर सिंह विधुड़ी ने भाजपा एवं कांग्रेस दोनों को आड़े हाथो लेते हुए कहा कि दोनों दलों की नीयत में खोट है। समाज अपने हक के लिए पीठ में नहीं सीने में गोली खाकर भी पीछे नहीं हटेगा। समाज को इस बात की गांठ बांधनी होगी कि पार्टियों की बातों में न उलझकर हक की लड़ाई स्वयं को लडऩी होगी।
समाज मुंह तोड़ जवाब देगा : डोई
राजस्थान गुर्जर समाज सामूहिक समिति के प्रदेशाध्यक्ष फतेहसिंह डोई ने कहा कि समाज के नेता पद हथियाने के लालच में लोगों को बरगला रहे हैं। उन्हें समाज मुंह तोड़ जवाब देगा।
सरकार की नीयत में खोट : अनीता गुर्जर
विधायक अनिता गुर्जर ने कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत की नीयत में खोट है। समाज के लिए पिछली सरकार द्वारा परोसी गई थाली को सरकार हाई कोर्ट की शरण लेकर छीनने में लगी है।
कुर्बानी भी देनी पड़ी तो देंगे : श्रीनाथ
आरक्षण संघर्ष समिति के प्रदेश उपाध्यक्ष श्रीनाथ गुर्जर ने कहा कि हमारे हक को कोई नहीं छीन सकता। जरूरत पड़ी तो हक के लिए हजारों कुर्बानी देने से भी पीछे नहीं हटेंगे।
कोई  नेता समाज से बड़ा नहीं : हेमसिंह
विधायक हेमसिंह भड़ाना न कहा कि कोई भी नेता समाज से बड़ा नहीं। समाज हित की बात करेगा, वहीं समाज का नेता होगा।
एकता से ही जीतेंगे हम : खेड़ला
महेंद्रसिंह खेड़ला ने कहाकि एकता व ताकत से ही हमारा हक मिल सकेगा। उन्होंने कहा कि 26 मार्च से पहले सरकार या तो हमारा हक दे दे अथवा आंदोलन को तैयार रहे। इस अवसर पर डॉ. बबीता गुर्जर, जिलाध्यक्ष मनफूल सिंह, अमरसिंह कसाना, लीलाधर गुर्जर, मनोज चौधरी, प्रदीप चौधरी सहित अनेक नेताओं ने संबोधित किया।

No comments:

Post a Comment

सबसे ज्यादा देखी गईं