Sunday, March 14, 2010

...नहीं तो 26 से बजेगा आंदोलन का बिगुल

हिंडौन में अपने निवास पर गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ीसिंह बैसला ने सहयोगी गुर्जर नेताओं के साथ की पुष्कर में होने वाली महापंचायत पर चर्चा
पुष्कर महापड़ाव के लिए वार्ता के दौरान मीडिया से मुखातिब होते कर्नल किरोड़ी सिंह बैसला एवं अन्य नेता।

(करौली जिला). हिंडौनसिटी के वर्धमान नगर स्थित अपने आवास पर गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ीसिंह बैसला ने सरकार को दो टूक शब्दों में चेतावनी दी कि २६ मार्च से पहले गुर्जरों को उनका हक दे दे, अन्यथा पुष्कर के महापड़ाव के रूप में आंदोलन का सामना करने को तैयार रहे। इस दौरान उन्होंने सहयोगी गुर्जर नेताओं के साथ महापड़ाव पर चर्चा की। बैसला ने कहा कि सरकार जानबूझकर न्यायालय की आड़ में गुर्जरों को उनके हक से वंचित कर रही है। सरकार ने गुर्जरों के हितों की अनदेखी करते हुए नौकरियों में भर्ती करना शुरू कर दिया है, जो गुर्जरों के हितों पर कुठाराघात है।
गुर्जरों को घूघरी बांटनां बंद करें जीतेंद्रजी
चर्चा में कैप्टन हरप्रसाद तंवर ने ऊर्जा मंत्री जीतेन्द्र सिंह को चेतावनी दी है कि वे गुर्जरों के बीच घूघरी बांटना बंद करें और गुर्जरोंके पक्ष में सरकार पर दबाव बनाएं, अन्यथा उनका भी हाल पूर्व मंत्री कालूलाल गुर्जर जैसा होगा। पिछली भाजपा सरकार ने गुर्जर गांवों में विकास के लिए 282 करोड़ रुपए दिए थे, किन्तु मौजूदा कांग्रेस सरकार ने 25 करोड़ रुपए ही प्रस्तावित किए हैं। इससे गुर्जरों के प्रति मौजूदा सरकार की नीयत का खुलासा हुआ है। इस दौरान हरकेश लपावली, प्रताप सिंह घाटरा, अतरूप सिंह ताजपुर, बंटी भरतपुर, आदि भी मौजूद थे।
सिकंदरा में भी जुटे गुर्जर, 21 को तय करेंगे रणनीति
(दौसा जिला). सिकंदरा मे नले वाले बालाजी पर गुर्जर समाज के लोगों की बैठक हुई। बैठक में आरक्षण को लेकर चर्चा की गई। समाज के श्रवण सूबेदार ने बताया कि बैठक में समाज के आरक्षण के मुद्दे को लेकर समाज के लोगों ने अपने विचार व्यक्त किए। इस दौरान आगामी बैठक 21 मार्च को बुलाने तथा बैठक में आगामी रणनीति तैयार करने का निर्णय लिया गया। इस दौरान समाज के दर्जनों लोग मौजूद थे।

No comments:

Post a Comment

सबसे ज्यादा देखी गईं